Home राजनीति आज़म को लेकर मायावती ने उठाये सवाल

आज़म को लेकर मायावती ने उठाये सवाल

Print Friendly, PDF & Email

उत्तर प्रदेश की सियासत में इस वक्त आज़म खान लगातार चर्चा में हैं. पिछले कुछ समय से आज़म अचानक ही राजनीतिक दलों के लिए खास हो गए हैं. भाजपा को छोड़ कर.

अब बसपा सुप्रीमो मायावती भी आज़म के पक्ष में खड़ीं हो गईं हैं. आज़म को लम्बे समय से जेल में बंद रखने को लेकर उन्होंने केंद्र और यूपी की भाजपा सरकार पर तीखा हमला किया है. गुरुवार को सुबह मायावती ने ट्विट कर केंद्र और राज्य सरकार पर द्वेश्पूर्ण कार्यवाही का आरोप लगाया.

मायावती ने ट्विट करते हुए कहा कि यूपी व दुसरे बीजेपी शासित राज्यों में कांग्रेस की ही तरह गरीबों, दलितों, आदिवासियों और मुस्लिमों पर जुल्म-ज्यादती कर उनको डराया जा रहा है. उन्होंने पूछा कि आज़म खान को सवा दो साल से जेल में बंद रखना न्याय का गला घोंटने जैसा नहीं है तो क्या है?

साथ ही मायावती ने अतिक्रमण के नाम पर की जा रही कार्यवाई को गरीबों के खिलाफ बताते हुए सरकार पर सवाल उठाया.

राजनीतिक दलों को अचानक हुआ आज़म प्रेम

मायावती के अचानक आज़म के पक्ष में खड़ा हो जाने से एक नई चर्चा शुरू हो गयी है. हाल में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान शांत रही मायावती का अचानक आज़म के लिए भाजपा सरकार पर सवाल उठाना चर्चा का विषय तो होना ही था. हालांकि बीते कुछ दिनों से एक के बाद एक सियासी दलों और नेताओं का आज़म प्रेम सामने आया है.

ये भी पढ़ें ..

राजद्रोह कानून पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

बदलेगी यूपी विधानसभा की तस्वीर

गये 22 अप्रैल को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल यादव सीतापुर जेल जाकर आज़म से मिले. मुलाकात के बाद शिवपाल ने समाजवादी पार्टी पर आज़म खान को रिहा कराने का प्रयास न किये जाने की बात कही थी. उन्होंने कहा था कि पूरी दुनिया जानती है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मुलायम सिंह यादव का सम्मान करते हैं. राज्यसभा और लोकसभा में सपा के सदस्य हैं. ऐसे में यदि पार्टी सदस्य धरना देते तो PM उसका संज्ञान जरुर लेते.

शिवपाल के बाद कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णन आज़म से मिलने सीतापुर जेल पहुंचे. जिसके बाद उन्होंने कहा था कि जेल में आज़म पर बहुत जुल्म हो रहा है. योगी और अखिलेश एक ही हैं. वहीं आज़म ने जेल में मिलने गये समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधि मंडल से मिलने से इनकार कर दिया था.

कभी अपने तीखे बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले आज़म अब 28 महीनों से जेल में रहने, जमानत के बाद भी जेल से बाहर न आ पाने और एक के बाद एक नए मामले दर्ज होने को लेकर चर्चा में हैं.

You may also like

Leave a Comment