Home राजनीति आत्ममंथन में जुटी कांग्रेस

आत्ममंथन में जुटी कांग्रेस

Print Friendly, PDF & Email

कांग्रेस पार्टी अब बड़े बदलाव की तैयारी में है. पार्टी में अब हर स्तर पर 50% पदाधिकारी 50 वर्ष से कम उम्र वाले होंगे. युवा कांग्रेस में 35 वर्ष तक के लोग आते हैं इसलिए 50 वर्ष की सीमा तय की जाएगी. पार्टी अब किसी पैरासूट उम्मीदवार को टिकट नहीं देगी. इतना ही नहीं नेताओं के रिश्तेदारों को भी सीधे टिकट नहीं दिया जायेगा. उसके लिए उसे कम से कम 5 साल पार्टी के लिए काम करना होगा.

कांग्रेस पार्टी में सुधार के लिए ऐसे ही कई महत्वाकांक्षी और महत्वपूर्ण प्रस्ताव तैयार किये गये हैं. इन प्रस्तावों पर नेताओं की सहमती भी बन गई है. इस बात की जानकारी शुक्रवार को खुद पार्टी के जनरल सेक्रेट्री अजय माकन ने मीडिया को दी.

आज से शुरू होगा पार्टी का चिंतन शिविर

राजस्थान के उदयपुर में आज (शुक्रवार) से कांग्रेस पार्टी के नव संकल्प चिंतन शिविर की शुरुआत होगी. चिंतन शिविर 3 दिन यानि 15 मई तक चलेगा. इस शिविर में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका सहित पार्टी के तमाम बड़े नेता शामिल होंगे.

ये नेता होंगे शामिल

3 दिवसीय चिंतन शिविर में शामिल होने के लिए कांग्रेस पार्टी के तमाम दिग्गज नेता उदयपुर पहुंच गये हैं. राहुल गांधी सहित 75 नेता ट्रेन से उदयपुर पहुंचे. शिविर में गांधी परिवार के अलावा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, शशि थरूर, के.सी. वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला और मल्लिकार्जुन खडगे जैसे नेता शामिल रहेंगे.

ये भी पढ़े ..

‘अधिकारियों के हिसाब-किताब’ पर अब्बास की बढ़ी मुश्किलें
आज़म को लेकर मायावती ने उठाये सवाल

नेताओं के लिए है खास इंतजाम

कांग्रेस चिंतन शिविर में आये नेताओं के लिए ताज अरावली, अनंता रिसोर्ट, ऑरिका लेमन ट्री और रेडिसन ब्लू में ठहरने की व्यवस्था की गई है. 9 राज्यों से शेफ बुला कर इनके लिए खास डिश बनवाई जा रही है.

राहुल का हुआ भव्य स्वागत

शिविर में शामिल होने उदयपुर पहुंचे राहुल गांधी का उदयपुर रेलवे स्टेशन पर भव्य स्वागत किया गया. स्टेशन पर जश्न का माहौल था. इसके पूर्व रास्ते में भी कई स्टेशनों पर पार्टी कार्यकर्ताओं उनका स्वागत किया. इस दौरान राहुल उनसे मिले और उनकी समस्याएं सुनीं.

अब देखना होगा कि कांग्रेस के इस चिंतन शिविर से पार्टी हित में क्या बदलाव सामने आते हैं. क्या जिन बड़े बदलावों के दावे किये जा रहे हैं वो पार्टी हित में यथार्थ हो पाते हैं या हर बार की तरह सिर्फ दावे ही रह जाते हैं.

You may also like

Leave a Comment