Home राजनीति केजरीवाल का दांव, भाजपा को चैलेन्ज

केजरीवाल का दांव, भाजपा को चैलेन्ज

Print Friendly, PDF & Email

63 लाख लोगों के घरों-दुकानों पर चलेगा बुलडोज़र, होगा आजाद भारत का सबसे बड़ा विध्वंस 

 

बीते उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में सबसे ज्यादा जिसकी चर्चा रही वो था ‘बुलडोज़र’. जहां विपक्षी दलों ने इसे लेकर सरकार पर सवाल उठाये तो वहीं सत्ताधारी भाजपा ने बुलडोज़र को कानून व्यवस्था का प्रतीक बना दिया. चुनाव परिणाम भाजपा के पक्ष में रहे, जिससे भाजपा ने इसे जनता द्वारा पसंद और प्रमाणित मान लिया.

योगी के नेतृत्व में दूबारा सत्ता में आई भाजपा सरकार आते ही एक्शन मोड में आ गई और बुलडोज़र फिर गरजने लगे. सरकार के हिसाब से अवैध संपत्तियों और कब्जों पर तो विपक्ष के हिसाब से मुस्लिमों, दलितों और कमजोरों पर. बुलडोजर की लोकप्रियता इतनी बढ़ी की ये यूपी से बाहर मध्य प्रदेश और अब दिल्ली में भी चर्चा में है.

ये भी पढ़ें ..
आत्ममंथन में जुटी कांग्रेस
‘अधिकारियों के हिसाब-किताब’ पर अब्बास की बढ़ी मुश्किलें

दिल्ली नगर निगम दिल्ली में अवैध निर्माणों को गिराने की कार्रवाई कर रहा है. जिसके चलते वहां का सियासी पारा गरमाया हुआ है. इसको लेकर सोमवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने प्रेस कांफ्रेंस की. बातचीत में उन्होंने सीधे बीजेपी पर निशाना साधा.

उन्होंने कहा कि ‘पिछले कुछ हफ़्तों से दिल्ली के अन्दर भारतीय जनता पार्टी शासित नगर निगम द्वारा दिल्ली में कई जगह बुलडोज़र चलाये जा रहे हैं. वो कह रहे हैं कि हम दिल्ली से सारा अतिक्रमण हटायेंगे. हम खुद भी अतिक्रमण के खिलाफ हैं. हम भी नहीं चाहते हैं कि दिल्ली में अतिक्रमण हो, अवैध इमारतें बनें.’

विडिओ देखें
Balwant Rai Mehta: गुजरात का वो मुख्यमंत्री जो भारत-पाक युद्ध में शहीद हुआ 

केजरीवाल ने कहा कि जिस तरह से 75 सालों में दिल्ली बसी है उसमें 80% से ज्यादा हिस्सा अतिक्रमण या अवैध है. तो सवाल यह उठता है कि क्या 80% दिल्ली तोड़ी जाएगी? साथ ही उन्होंने कार्रवाई से पूर्व किसी को भी नोटिस न देने और लोगों के पास उनके घरों या दुकानों के कागजात होने के बावजूद उन्हें बिना देखे गिरा देने का भी आरोप लगाया.

उन्होंने कहा कि जिस तरह से अतिक्रमण हटाया जा रहा है, लोगों के घरों और दुकानों को तोड़ा जा रहा है वो सही नहीं है. 63 लाख लोगों के घरों पर बुलडोज़र चलेगा, जो आजाद भारत में सबसे बड़ा विध्वंस होगा. दिल्ली की कच्ची बस्तियों में 50 लाख लोग रहते हैं. जुग्गियों में 10 लाख लोग रहते हैं. वहीं 3 लाख ऐसे लोगों को चिन्हित किया गया है जिनके घरों या प्रतिष्ठानों में कुछ अवैध निर्माण हुआ है.

केजरीवाल ने भाजपा पर सवाल उठाते हुए कहा कि पिछले 15 सालों से यहां भाजपा का राज है. अब जब उनका कार्यकाल केवल 2 दिन बचा है ऐसे में क्या उन्हें इसका अधिकार है?

केजरीवाल ने आज प्रेस कांफ्रेंस कर दिल्ली की गरमाई राजनीति में घी डालने का काम किया है. नगर निगम में आम आदमी पार्टी का अधिकार होने के बाद इन कालोनियों और जुग्गियों को अधिक साफ़-सुथरा और व्यवस्थित करने की बात कह उन्होंने चुनावी दांव खेल दिया. अब देखना होगा कि केजरीवाल का ये कदम निगम चुनावों में उनके कितना काम आ पाता है?

You may also like

Leave a Comment