Home राजनीति ये भारत जोड़ने का वक्त : राहुल

ये भारत जोड़ने का वक्त : राहुल

Print Friendly, PDF & Email

“नफ़रत सिर्फ नफरत को ही जन्म देती है. प्यार और भाईचारे का रास्ता ही भारत को प्रगति की दिशा में ले जा सकता है और ये भारत को जोड़ने का समय है.” ये बातें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने ट्विट कर कहीं हैं.

राहुल गांधी ने #BharatJodo  के साथ अपना ये ट्वीट किया. राहुल की ये टिप्पणी पैगम्बर मुहम्मद पर विवादित बयान देने वाले भाजपा पदाधिकारियों नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल को पार्टी से निकाले जाने के बाद आई है.

भारतीय जनता पार्टी पर लगातार ध्रुवीकरण के जरिए समाज में नफरत फैलाने का कांग्रेस हमेशा से ही आरोप लगाती रही है. भाजपा प्रवक्ता नुपुर शर्मा के बयान पर मचे भूचाल के बाद कांग्रेस इस मुद्दे पर और आक्रामक हो गयी है. कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्विट किया कि “भाजपा की नफरत ने देश को तबाह कर दिया है. अगर आप देश को बचाना चाहते हैं तो एकजुट हो जाएं.”

कांग्रेस पर नर्म सिब्बल, कहा : तीसरे मोर्चे में अहम रोल

मुख़्तार ने राहुल से कहा ‘Get Well Soon’

बताते चलें कि, पैगंबर मुहम्मद पर विवादित टिप्पणी को लेकर भाजपा ने बीते दिन पार्टी प्रवक्ता नूपुर शर्मा को प्राथमिक सदस्यता से 6 साल के लिए निलंबित कर दिया था. इसके अलावा बीजेपी ने नवीन कुमार जिंदल को भी पार्टी से निकाला दिया था. नवीन कुमार जिंदल, दिल्ली बीजेपी के मीडिया हेड हैं. ये पूरा मामला तब शुरू हुआ था जब 27 मई को नूपुर शर्मा ने एक निजी चैनल के डिबेट में हिस्सा लिया था. इस दौरान ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर हो रहे विवाद पर चर्चा की जा रही थी.

नुपूर के बयान के बाद से हो रह है भाजपा का विरोध

न्यूज़ चैनल पर डिबेट के दौरान नुपूर शर्मा ने कथित तौर पर पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ कुछ अपमानजनक टिप्पणी कर दी थी. इसके बाद ट्विटर पर नूपुर की वीडियो वायरल हो गई और उन पर पैगंबर का अपमान करने का आरोप लगाया था. बता दें कि, इसके बाद देश में बीजेपी के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन हुआ और नुपूर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग भी उठी थी. वहीं इस्लामिक देशों में भारत का विरोध देखने को मिला. कतर और कुवैत के बाद ईरान  ने भी भारतीय राजदूत  को तलब किया. वहीं सोशल मीडिया पर भारतीय उत्पादों पर प्रतिबंध लगाने के आह्वान किए जा रहे हैं.

विडियो लिंक 

मोदी सरकार के 8 साल : लोग परेशान तो खूब हुए पर चुनाव में असर नहीं हुआ

क़तर के दौरे पर हैं उपराष्ट्रपति

बता दें कि उपराष्ट्रपति बैंकैया नायडू अपने तीन दिनों के औपचारिक दौरे पर हैं. उपराष्ट्रपति के दौरे के बीच ऐसे विवाद का होना और उसपर विरोध होना खासा महत्वपूर्ण हो जाता है. माना जा रहा है कि खाड़ी देशों के विरोध के चलते दबाव में भारतीय जनता पार्टी ने अपने नेताओं को पार्टी से निष्कासित करने का कदम उठाया है.

You may also like

Leave a Comment