Home राजनीति “कोवोवैक्स” को डबल्यूएचओ ने दी संस्तुति: टीकाकरण बढ़ेगा या बूस्टर लगेगी?

“कोवोवैक्स” को डबल्यूएचओ ने दी संस्तुति: टीकाकरण बढ़ेगा या बूस्टर लगेगी?

by National News Desk
Print Friendly, PDF & Email

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 17 दिसंबर 2021 को 9वीं कोविड वैक्सीन को “इमर्जन्सी यूज़ अप्रूवल” दिया, यानी कि आपातकाल स्थिति में इस्तेमाल की अनुमति दी – इस वैक्सीन का नाम है “कोवोवैक्स”। इसको अमेरिका की नोवोवैक्स कम्पनी और कोअलिशन फ़ोर एपिडेमिक प्रिपेरेडनेस इनिशेटिव ने मिलकर बनाया है। इसकी 2 डोज़ लगती हैं और इसको 2-8 डिग्री सेल्सियस में रखना होगा।  विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वैश्विक प्रणाली बनायी है जिससे कि सभी वैक्सीन निर्माता वहाँ पर उचित दाम में संतोषजनक वैक्सीन दें और ज़रूरत के अनुसार यह दुनिया भर में वैक्सीन उपलब्ध करवाए। इस प्रणाली को “कोवोवैक्स” कहते हैं। कोवोवैक्स ख़ासकर कि गरीब और मध्यम वर्गीय देशों और सभी को टीके उपलब्ध करवाती है। परंतु निर्माता वैक्सीन अपेक्षा के अनुरूप कोवैक्स को दे नहीं रहे बल्कि सीधे अमीर देशों को दे दे रहे हैं। 

कुछ माह पहले, नोवोवैक्स ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ समझौता किया था कि वह नयी वैक्सीन “कोवोवैक्स” के 35 करोड़ टीके विश्व स्वास्थ्य संगठन की कोवैक्स प्रणाली को देगा। पर यह समझौता कानूनी रूप से बाध्य नहीं है। आशा है कि नोवोवैक्स 35 करोड़ टीके कोवैक्स प्रणाली को देगा। नोवोवैक्स का यह टीका कोवोवैक्स, भारत में स्थित सीरम इन्स्टिटूट ओफ़ इंडिया बनाएगा। भारत सरकार की समिति के अध्यक्ष ने हाल ही में समाचार के अनुसार कहा कि कोवोवैक्स टीका बूस्टर की तरह लगने के लिए बेहतर है। सवाल यह है कि क्या भारत में निर्मित होने वाला यह टीका कोवोवैक्स जो अमेरिकी कम्पनी नोवोवैक्स का है, समझौते के अनुसार पहले कोवैक्स प्रणाली को दिया जाएगा जिससे कि टीके से वंचित लोगों को प्रथम खुराक लग सके, या कि वह बूस्टर की तरह उनको लगेगा जिन्हें इस साल पूरी खुराक पहले ही लग चुकी है? दुनिया में एक साल पहले कोविड वैक्सीन लगनी शुरू हुई थी, और भारत में 16 जनवरी 2021 से कोविड टीकाकरण शुरू हुआ। एक साल में दुनिया भर में सभी पात्र लोगों को कोविड वैक्सीन की पूरी खुराक लग जानी चाहिए थी। परंतु जिस ग़ैर-बराबरी से वैक्सीन लगी उसके कारण एक ओर तो दुनिया के आधे से अधिक देश अपने लोगों के टीकाकरण को तरस गए, और दूसरी ओर, कुछ अमीर देशों की ज्यादातर आबादी को न सिर्फ़ पूरी खुराक टीका मिला बल्कि अब बूस्टर टीका मिल रहा है। 


लोरेटो कॉन्वेंट कॉलेज की भौतिक विज्ञान की सेवा निवृत्त वरिष्ठ शिक्षिका शोभा शुक्ला ने कहा कि अक्टूबर 2021 में इंग्लैंड में रोजाना 10 लाख बूस्टर टीके लग रहे थे परंतु अफ्रीका के देशों में सिर्फ़ 3.3 लाख प्रथम खुराक टीके लग रहे थे। जब तब दुनिया की आबादी में सभी पात्र लोगों को समयबद्ध तरीके से पूरी खुराक वैक्सीन नहीं लग जाती, तब तक कोरोना वायरस एक चुनौती बना रहेगा – जिन्हें टीका नहीं लगा है उनको संक्रमित होने का ख़तरा अत्यधिक रहेगा और गंभीर परिणाम (जिसमें मृत्यु शामिल है) होने का खतरा भी अनेक गुणा रहेगा। इंगलैंड के शोध के मुताबिक जिन्हें वैक्सीन नहीं लगी है इन्हें गम्भीर परिणाम होने का ख़तरा 30 गुणा अधिक है उन लोगों की तुलना में जिन्हें पूरी खुराक वैक्सीन लग चुकी है। इसी ग़ैर-बराबरी के कारण आज दुनिया के आधे से अधिक देश ऐसे हैं जहां 40% आबादी का टीकाकरण नहीं हुआ है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सभी देशों के साथ यह लक्ष्य रखा था कि दिसम्बर 2021 तक सभी देशों की आबादी के कम-से-कम 40% का पूरा टीकाकरण हो। पर 193 में से 98 ऐसे देश हैं जो इस लक्ष्य को पूरा नहीं कर पाएँगे।  ज़ाहिर बात है कि कोरोना उन्हीं लोगों को अधिक संक्रमित कर रहा है और इन्हें ही गम्भीर परिणाम झेलने पड़ रहे हैं जिनका टीकाकरण नहीं हुआ है। अस्पताल में भर्ती, ऑक्सीजन की ज़रूरत या वेंटिलेटर आदि इन्हीं वैक्सीन से वंचित लोगों को अधिक जरूरत पड़ रही है। अमीर देशों में जो लोग अभी टीकाकरण से छूट गए हैं उनको ही संक्रमण का खतरा अधिक है। इसी तरह गरीब और माध्यम वर्गीय देशों में भी जो लोग टीकाकरण से छूट गए हैं उनको ही संक्रमित होने का और गंभीर परिणाम झेलने का खतरा अत्यधिक है। इसी म्यूटेशन से वायरस में बदलाव आ जाता है, जिससे खतरा बढ़ जाता है। वायरस अधिक संक्रमण हो सकता है, अधिक रोग उत्पन्न कर सकता है, आदि। जितना वायरस संक्रमित करेगा उतना ख़तरा म्यूटेशन और उसके कारण हुए बदलाव का मंडराएगा।

इसलिए कोरोना वायरस पर लगाम लगाने के लिए यह जरूरी है कि सभी लोग, भले ही वह अमीर देश में हों या गरीब देश में, सभी लोग सुरक्षित रहें और संक्रमण से बचे और पूरा टीकाकरण करवाएँ। नोवोवैक्स के इस टीके कोवोवैक्स से सम्बंधित सभी वैज्ञानिक आँकड़े और सुरक्षा और प्रभाव सम्बन्धी सभी तथ्यों का मूल्यांकन किया गया और जहां यह बनाया जाएगा (भारत में स्थित सीरम इन्स्टिटूट ओफ़ इंडिया) वहाँ का भी दौरा किया गया और सभी व्यवस्था का मूल्यांकन किया गया है। सीरम इन्स्टिटूट ओफ़ इंडिया का इस नयी वैक्सीन बनाने से संबंधित व्यवस्था की जाँच ड्रग कंट्रोलर जेनरल ओफ़ इंडिया ने की। इसी के पश्चात विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस टीके को संस्तुति दीं। यह संस्तुति आपात स्थिति उपयोग के लिए मिली है जो 9 टीकों को मिल चुकी है। शोध जारी रहेंगे और जिनके आधार पर, कोवोवैक्स समेत सभी 9 टीकों को भविष्य में शायद पूरी संस्तुति मिल सकेगी। 

You may also like

Leave a Comment