Home राजनीति महाराष्ट्र में सियासी भूचाल

महाराष्ट्र में सियासी भूचाल

Print Friendly, PDF & Email

महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी के राजनैतिक रथ के पहिये पर आज विराम लगता दिखाई दे रहा है. शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के अगुवाई वाला ये साझा रथ उस समय डगमगाता दिखा जब शिवसेना के एक मंत्री के गायब होने की खबर चर्चा बन गयी.

महाराष्ट्र में फ़िलहाल शिवसेना के नेतृत्व में महा विकास अघाड़ी की सरकार है. बीते कुछ समय से यहां राजनैतिक अस्थिरता सामने आ रही थी, खासकर राज्यसभा चुनाव में. अस्थिरता के चलते इस चुनाव में शिवसेना को नुकसान भी उठाना पड़ा और भाजपा यहाँ एक सीट ज्यादा जीतने में कामयाब रही.

सोमवार को राज्य में परिषद के चुनाव हुए. यहां 10 सीटों के लिए चुनाव होने थे. इसके लिए 11 उम्मीदवार मैदान में थे. नंबर गेम के हिसाब से यहां भाजपा के चार उम्मीदवार आसानी से जीत सकने की स्थिति में थे, पर बीजेपी ने पांच उम्मीदवार मैदान में उतारे.

ये भी पढ़ें …

अग्निपथ को किसान बिल की ही तरह वापस लेना पड़ेगा : राहुल

कांग्रेस पर नर्म सिब्बल, कहा : तीसरे मोर्चे में अहम रोल

महा विकास अघाड़ी ने अपने छ: उम्मीदवार उतारे जिसमें शिवसेना के 2, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के 2 और 2 उम्मीदवार कांग्रेस पार्टी के थे. 11 उम्मीदवार मैदान में आ जाने से दसवीं सीट का मुकाबला रोचक हो गया. शिवसेना और एनसीपी के 2-2 उम्मीदवार तो परिषद पहुँच गए लेकिन क्रॉस वोटिंग के चलते कांग्रेस का एक ही उम्मीदवार जीत पाया जबकि दूसरे को हार का सामना करना पड़ा.

इन सबके बीच महा विकास अघाड़ी के लिए बुरी खबर तब आई जब शिवसेना के एक मंत्री अचानक गायब हो गये. महाराष्ट्र सरकार में नगर विकास के मंत्री एकनाथ शिंदे के अचानक गायब होने की खबर न सिर्फ मीडिया बल्कि राजनीतिक गलियारे की सुर्खियाँ बन गयी. दरअसल शिंदे के साथ – साथ लगभग 24 विधायकों के भी गायब होने की खबर आने लगी. थोड़ी देर बाद गायब होने वाले विधायकों की संख्या 34 बताई जाने लगी.

विडियो देखें …

क्या शरद पवार टाल पाएंगे उद्धव का खतरा ?

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो शिंदे के साथ शिवसेना के 14, एनसीपी का 1 और 10 निर्दलीय विधायकों ने गुजरात के सूरत में डेरा डाल रखा है. वे यहां एक होटल में ठहरे हुए हैं. इनका फ़ोन भी बंद आ रहा है. बताता चलूं कि एकनाथ शिंदे को उद्धव ठाकरे का करीबी माना जाता है. इसीलिए जब राज्य में शिवसेना की सरकार बनी तो शिंदे को नगर विकास का मंत्री बनाया गया.

महाराष्ट्र में सियासी हलचल का असर दिल्ली में भी दिखा. केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के घर जा कर उनसे मुलाकात की. साथ ही महाराष्ट्र सरकार के पूर्व  मुख्यमंत्री और राज्यसभा व परिषद के चुनाव में भाजपा की जीत के नायाक बने देवेन्द्र फणनवीस भी दिल्ली पहुंच गये. खबर है कि शाह और नड्डा आज शाम अहमदाबाद पहुंचेगे.

अब देखना होगा कि शिवसेना और उनसे सहयोगी दल इस परेशानी से कैसे पार पा क्या अपनी सरकार बचाने में कामयाब होते हैं या फिर बीजेपी अपनी सरकार बनाने में कामयाब हो जाती है?

You may also like

Leave a Comment