Home देस-परदेस CIA प्रमुख का दावा : चीनी साजिश का शिकार हुआ श्रीलंका

CIA प्रमुख का दावा : चीनी साजिश का शिकार हुआ श्रीलंका

Print Friendly, PDF & Email

संदेहास्पद गतिविधियों के लिए चर्चा में रहने वाला चीन फिर सुर्ख़ियों में आ गया है. अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA के प्रमुख बिल बर्न्स ने चीन पर जानबूझकर श्रीलंका को कर्ज के जाल में फंसाने का आरोप लगाया है. CIA प्रमुख ने श्रीलंका की मौजूदा आर्थिक दुर्दशा के लिए कर्ज की जाल में फंसाने की चीनी कूटनीति को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा है कि श्रीलंका चीन के दांव को समझ नहीं सका और मूर्खतापूर्वक उसके जाल में फंस गया। दूसरे देशों को इससे सबक लेना चाहिए।

वॉशिंगटन स्थित एस्पेन सिक्योरिटी फोरम को संबोधित करते हुए सीआईए प्रमुख बर्न्स ने कहा कि श्रीलंका चीनी कूटनीति का कैसे शिकार हुआ पूरी दुनिया ने देखा. दूसरे देशों को इससे सबक लेना चाहिए। श्रीलंका की इस गलती को अन्य देशों को चेतावनी के रूप में लेना चाहिए। एस्पेन सिक्योरिटी फोरम, एस्पेन इंस्टीट्यूट आफ ह्यूमेनेटिक स्टडीज की बनाई गई गई अंतरराष्ट्रीय संस्था है। यह विश्वभर में समतामूलक समाज की स्थापना के लिए काम करती है।

पढ़े : TMC ने महुआ से किया किनारा
देखें : UP की राजनीति में शाह की एंट्री

सीआईए के प्रमुख ने कहा कि श्रीलंका अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) के साथ चर्चा कर अभूतपूर्व आर्थिक संकट का बेहतर हल निकालने में विफल रहा और चीन के जाल में फंस गया। बर्न्स ने बुधवार को आरोप लगाया कि श्रीलंका की आर्थिक तबाही का बड़ा कारण चीन का कर्ज के रूप में बड़ा निवेश है।

CIA प्रमुख ने कहा कि उसने पूर्व राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे के साथ मिलकर श्रीलंका को कर्ज के जाल में फंसाया। उसने हंबनटोटा बंदरगाह के विकास के लिए श्रीलंका को बड़ा कर्ज दिया। इसके बाद 2017 में श्रीलंका 1.4 अरब डॉलर का चीनी कर्ज चुकाने में विफल हो गया। इसके बाद यह बंदरगाह 99 साल के लिए एक चीनी कंपनी को लीज पर पर देने के लिए मजबूर किया गया। इसके लिए चाइना हार्बर इंजीनियरिंग कंपनी (सीईसी) और चीन हाइड्रो कॉर्पोरेशन ने संयुक्त उद्यम किया।

वहीं बर्न्स अन्य देशों को आगाह करते हुए कहा कि चीनी कंपनियां दूसरे देशों में बड़ा निवेश कर सकती हैं, इसके लिए वे आकर्षक प्रस्ताव रखती हैं। आज श्रीलंका जैसे देशों की हालत को देखना चाहिए। वह चीन के भारी कर्ज के दबाव में है। उसने अपने आर्थिक भविष्य के बारे में मूर्खतापूर्ण दांव लगाए और नतीजतन आर्थिक और राजनीतिक दोनों तरह से बहुत विनाशकारी हालात का सामना कर रहा है।

बताते चलें कि इसी जुलाई के पहले हफ्ते में अमेरिकी जांच एजेंसी फ़ेडरल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टीगेशन (FBI) के प्रमुख Christopher Wray और ब्रिटेन के खुफिया एजेंसी MI5 के प्रमुख  Ken McCallum ने चीन को लेकर कई गंबीर आरोप लगाये थे, जिनमें डाटा चुराने से लेकर तकनीकि चुराने और ताइवान पर कब्जे के मनसूबे बनाने जैसे गम्भीर आरोप लगाये थे.

 

 

 

You may also like

Leave a Comment